बीत रात के सपनें – Dreams of bygone night

Image रात जो बीत गयी है उसके सपनें ना देखिए,बस पैरों की ज़ंजीर बन जाएंगें,दिन जो हातों में है बस उसके पल खिलाइए,खुली उड़ान की तकदीर बन जाएंगे। यार जो ना रहा है उसके ग़मों को ना गिनिए,बस दिल के ताज़े ज़ख्म बन जाएंगें,प्यार जो सामने है उसकी बातों को समेटिए,वही अमन की नज़्म बन … Continue reading बीत रात के सपनें – Dreams of bygone night

A bard’s lost love..

Image Such cruel fate the "Moirai" weave,Yearning souls suffer, tied hands leave,and hearts grieve with shallow smiles."Converge!", "Diverge!" the kismet calls;Puppeteer show and dancing dolls;Life trolls the harrowing miles. Worded poems in bard's quivers,Not letters but his heart's slivers,He covers, conceals and hide."Love's just a melancholic play","Forget!" "Move on!" the logic say,and heart obeys to … Continue reading A bard’s lost love..

बस आपसे, ….. गुज़ारिश है। (I only request you to…)

image आज आंसुओं की बारिश है,दर्द-ए-जिगर की नुमाईश है,ज़ादा कुछ नहीं चाहिएइस नादान को मनाने केलिए,बस आपसे, प्यार से मुस्कुराने की गुज़ारिश है। आज समां गुमसुम है,बड़ा सुनसान मंज़र है,ज़ादा कुछ नहीं चाहिए इस दिल को गुनगुनाने केलिए,बस आपसे, प्यार से पुकारने की गुज़ारिश है। आज नज़ारा बड़ा बेरंग है,मन में ख्यालों की एक जंग … Continue reading बस आपसे, ….. गुज़ारिश है। (I only request you to…)

बड़ी कुर्बानी (Greater sacrifice )

अपने ख़ज़ानों को लुटा कर बादलों ने सींचा है हर ज़मीन को,अपने परवानों को जला के शमा ने रोशन किया है हर महफिल को, अपने आराम को हराम कर के भँवरे ने खिलाया हर गुल को,अपने रंजिशों को भुला कर पहाड़ों ने सवारा है हर वादी को,अपने गुरूरों को तोड़ के समन्दरों ने सुकून नवाज़ा … Continue reading बड़ी कुर्बानी (Greater sacrifice )

तन्हाई की रात (Night of loneliness)

source   आप का नाम ना ले तो नींद नहीं आती,ये कमबख्त ख्वाब बसते नहीं आँखों मे,जब तक, आपके लिए दिल से दुआ नहीं जाती। रिश्ता यूँ आपसे बनगया है दोस्ती का,दूर होके भी ख़यालोंसे आपकी महक नहीं जाती। आज चाँद खफा खफा है सितारों से,उसे भी ये तन्हाई रास नहीं आती। भूल गए है … Continue reading तन्हाई की रात (Night of loneliness)

The evening’s bride…

source The evening's bride follows the nightly trail,revealing her decorous dusky splendor,flaunting her dulcet golden veil.Reflection of jagged mighty alpine,humbled on the vast gleaming brine."Early bird", Is the nightly moon, dwarfly seen,his celestial companions, late to dimming scene.In aquatic magna, frolics my delicate dame,"Santalum" skin glows in the eventide flame.She's a slender silhouette, a dark … Continue reading The evening’s bride…

Affair with the “Night Quean”

image source Salty moist eyes bid adieu,to the dark courtesan, "Night".Recalling stories they shared,squinting at captious day light.Disapproval, disgust, condemnation,is discourse of the "burning eye",Kindness, empathy, solacewas transcendence of the "blemished ally".Pretentious upright grandiose,snubs the aching hearts,Bonafide sensitive songs, obscured by narcissistic farts.Flashy colors of the ostentatious,cannot fool the innately sagacious.Though multitudes are lured bytheir charismatic … Continue reading Affair with the “Night Quean”

Carefree morning.

Source   Under the pure white linen, cozily curled up, On the soft Persian bed, my cherished (दुलारी) rests clueless like a pup. Brunette silky waves, cascading on darling's face, Twined Palms lay concave, praying with angelic grace. Petals of eyes veil the happy dreams, smiling lips reveal brewing scenes. Refracted light brightens the decorated … Continue reading Carefree morning.