बीत रात के सपनें – Dreams of bygone night

Image रात जो बीत गयी है उसके सपनें ना देखिए,बस पैरों की ज़ंजीर बन जाएंगें,दिन जो हातों में है बस उसके पल खिलाइए,खुली उड़ान की तकदीर बन जाएंगे। यार जो ना रहा है उसके ग़मों को ना गिनिए,बस दिल के ताज़े ज़ख्म बन जाएंगें,प्यार जो सामने है उसकी बातों को समेटिए,वही अमन की नज़्म बन … Continue reading बीत रात के सपनें – Dreams of bygone night

A bard’s lost love..

Image Such cruel fate the "Moirai" weave,Yearning souls suffer, tied hands leave,and hearts grieve with shallow smiles."Converge!", "Diverge!" the kismet calls;Puppeteer show and dancing dolls;Life trolls the harrowing miles. Worded poems in bard's quivers,Not letters but his heart's slivers,He covers, conceals and hide."Love's just a melancholic play","Forget!" "Move on!" the logic say,and heart obeys to … Continue reading A bard’s lost love..