बस आपसे, ….. गुज़ारिश है। (I only request you to…)

आज आंसुओं की बारिश है,
दर्द-ए-जिगर की नुमाईश है,
ज़ादा कुछ नहीं चाहिए
इस नादान को मनाने केलिए,
बस आपसे, प्यार से मुस्कुराने की गुज़ारिश है।

आज समां गुमसुम है,
बड़ा सुनसान मंज़र है,
ज़ादा कुछ नहीं चाहिए
इस दिल को गुनगुनाने केलिए,
बस आपसे, प्यार से पुकारने की गुज़ारिश है।

आज नज़ारा बड़ा बेरंग है,
मन में ख्यालों की एक जंग है
ज़ादा कुछ नहीं चाहिए
इस दिल के सुकून केलिए,
बस आपसे, प्यार से गले लगाने की गुज़ारिश है।

आज हवाओं में ना कोई खुशबू है,
घटाओं में ना कोई सावन है,

ज़ादा कुछ नहीं चाहिए
इस कली के खिलने केलिए,
बस आपसे, प्यार से छूने की गुज़ारिश है।

English Version
~~~~~~~~~~~~

Today it’s raining tears,
It’s the exhibition of aching heart,
But it doesn’t take much to calm this naive heart,
I only request you to lovingly smile at it.

Today the gathering is very quiet,
The view is very deserted,
But it doesn’t take much to make this heart sing,
I only request you to lovingly call it.

Today the scenery is colorless,
There is a battle of thoughts in the mind,
But it doesn’t take much to bring peace to this heart,
I only request you to lovingly embrace it.

Today the wind doesn’t carry any fragrance,
The cloud don’t carry any rain,
But it doesn’t take much to make this bud to bloom,
I only request you to lovingly touch it.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s